मध्यप्रदेश में पायी जाने वाली मिट्टियों (Soil) की जानकारी विस्तार से MP ki Mittiya General Knowledge in Hindi

Madhya pradesh me Mittiya MP ki Mittiya MP GK – मध्यप्रदेश की मिट्टियां हम सब जानते हैं कि भारत एक कृषि प्रधान देश है! यहां पर लगभग 70% जनसंख्या कृषि का कार्य करती है! मध्य प्रदेश जिसे भारत देश का ह्रदय कहा जाता है, यहां पर भी अधिक संख्या में लोग कृषि का कार्य करते हैं! ! कृषि करने के लिए सबसे जरूरी है मिट्टी! अगर मिट्टी की उर्वरा क्षमता अच्छी होगी तो फसल भी अच्छी मात्रा में होगी! तो आज हम जानने वाले हैं कि मध्य प्रदेश में पाई जाने वाली मिट्टियों के प्रकार एवं एमपी की मिट्टियों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी ! जलोढ़ मिट्टी को अधिक उपजाऊ मिट्टी माना जाता है एवं काली मिट्टी में मुख्य रूप से लोहा एवं चुना होता है! Soil of MP

Madhya Pradesh Soil – MP Ki Mittiya

MP ki Mittiya
MP ki Mittiya मध्यप्रदेश की मिट्टियाँ

काली मिट्टी – सर्वाधिक क्षेत्र में पायी जाने वाली मिटटी MP ki Mittiya

काली मिट्टी को रेगुड मिट्टी भी कहा जाता है, इसमें पाए जाने वाले मुख्य तत्व लोहा एवं चुना है! मिट्टी पेड़ पौधों को उगने एवं बढ़ने के लिए आवश्यक तत्व को प्रदान करती है! काली मिट्टी की प्रकृति क्षारीय होती है! काली मिट्टी में कपास के हूं एवं सोयाबीन की फसल अच्छी होती है! यह मालवा के पठार, नर्मदा सतपुड़ा की मैकल श्रेणी तथा सोन घाटी में पाई जाती है! काली मिट्टी सबसे ज्यादा लगभग 45% क्षेत्र में पाई जाती है! काली मिट्टी में पानी को ग्रहण करने की क्षमता अधिक होती है! जब मिट्टी में पानी की कमी हो जाती है तो इसमें दरारे पड़ जाती है और जमीन फट जाती है! साधारण काली मिट्टी को सिंचाई की अधिक आवश्यकता नहीं होती है! MP ki Mittiya
काली मिट्टी भी तीन प्रकार की होती है- गहरी काली मिट्टी, साधारण काली एवं छिछली काली मिट्टी

जलोढ़ मिट्टी – मध्यप्रदेश की सबसे अधिक उपजाऊ मिट्टी 

अन्य की अपेक्षा जलोढ़ मिट्टी अधिक उपजाऊ मिट्टी होती है! जलोढ़ मिट्टी की प्रकृति उदासीन होती है यह ना तो अम्लीय होती है और नहीं क्षारीय होती है! जलोढ़ मिट्टी का निर्माण नदियों द्वारा भाग कर लाई गई कछारो से होता है! मध्य भारत के क्षेत्र जैसे भिंड, मुरैना, शिवपुर, ग्वालियर व शिवपुरी जिले में जलोढ़ मिट्टी पाई जाती है! यह मिट्टी गन्ने की खेती के लिए उपयुक्त होती है साथ ही इसमें गेहूं एवं कपास भी अच्छा होता है! यह मिट्टी प्रदेश के लगभग 3 लाख एकड़ भू-भाग पर जो कि कुल मिट्टी का लगभग 3% है! इस मिट्टी की उर्वरा क्षमता अच्छी होती है जिसके कारण इसमें सभी फसल का उत्पादन अधिक होता है!

लाल पीली मिट्टी : गोंडवाना सेल समूह से निर्मित मिट्टी General Knowledge

लाल पीली मिट्टी मध्य प्रदेश के पूर्वी भाग बघेलखंड में पाई जाती है! यह मिट्टी मंडला बालाघाट शहडोल जिले के भूभाग में पाई जाती है! इस मिट्टी का निर्माण गोंडवाना सेल समूह से निर्मित है! लाल पीली मिट्टी प्रदेश की संपूर्ण मिट्टी का लगभग 37% भाग है! इस मिट्टी में फेरिक ऑक्साइड के जल अपघटन से पीला रंग होता है तथा लाल रंग लोहे के ऑक्सीकरण से बनता है! इसमें चुने की मात्रा अधिक होती है लेकिन जो पदार्थों की मात्रा कम होती है! इस मिट्टी का पीएच मान 5.5 से 8.5 होता है! यह मिट्टी अम्लीय से छारीय प्रकृति की होती है जो कि धान की फसल के लिए उपयुक्त होती है! लाल पीली मिट्टी में चावल की फसल अधिक होती है!

मिश्रित मिट्टी – सभी मिट्टियो का मिश्रण  Madhya Pradesh GK

मिश्रित मिट्टी में सभी मिट्टी का मिश्रण पाया जाता है! इसमें लाल, पीली ,काली एवं जलोढ़ मिट्टी का मिश्रण होता है! यह मिट्टी बुंदेलखंड क्षेत्र में पाई जाती है इस मिट्टी में मुख्यतः मोटे अनाज उगाए जाते हैं! मिश्रित मिट्टी में नाइट्रोजन फास्फेट एवं कार्बनिक पदार्थों की अल्पता पाई जाती है! निश्चित मिट्टी एक प्रकार से सभी मिट्टियों का मिश्रण होती है! इसमें सभी मिट्टियों के गुण पाए जाते हैं! Madhya Pradesh ki Mittiya MP me Mittiya

कछारी मिट्टी – नदियों द्वारा बहाकर लायी गई मिटटी 

जब नदियों में बाढ़ आती है तो बाढ़ के दौरान नदियों द्वारा अपने अपवाह क्षेत्र में बिछाई गई मिट्टी कछारी मिट्टी कहलाती है! कछारी मिट्टी का विस्तार भिंड मुरैना शिवपुर एवं ग्वालियर आदि जिलों में है! यह मिट्टी अधिकतम नदियों के किनारे क्षेत्र में पाई जाती है! कछारी मिट्टी में गेहूं गन्ना कपास आदि फसलें मुख्य रूप से उगाई जाती है! कछारी मिट्टी में फसलों को अधिक उपजाऊ बनाने के लिए तत्व मौजूद होते हैं!

मध्यप्रदेश में मुख्य रूप से पांच प्रकार की मिट्टी पाई जाती है! जिनमें से काली मिट्टी मैं मुख्य रूप से लोहा एवं चुना होता है! जलोढ़ मिट्टी पर दो के रूप में पाई जाती है और यह मिट्टी अधिक उपजाऊ भी होती है! जलोढ़ मिट्टी की प्रकृति उदासीन होती है! काली मिट्टी में जल धारण करने की क्षमता सर्वाधिक होती है! एवं काली मिट्टी मध्यप्रदेश के अधिक भूभाग में पाई जाती है! मिट्टी चट्टान एवं जीवांश के मिश्रण से बनती है जो कि पेड़ पौधों के उगने एवं बढ़ने के लिए आवश्यक तत्व को प्रदान करती है! MP GK in Hindi Study material General Knowledge in Hindi MP ki Mittiya

यह भी जाने :- मध्यप्रदेश के प्रमुख मेले MP GK