Mission Karmayogi Yojana : मिशन कर्मयोगी योजना के ये हैं लाभ और उद्देश्य, ऐसे उठाएं लाभ

Mission Karmayogi Yojana मिशन कर्मयोगी योजना के ये हैं लाभ और उद्देश्य, ऐसे उठाएं लाभ : अपने कार्यकाल के दौरान में पीएम मोदी देश के निवासियों, किसानों और कई कमजोर वर्ग के लोगों के लिएक कई तरह की योजना का शुभारंभ कर चुकी है, जिसका लाभ तमाम लाभार्थी उठा पा रहे हैं। वहीं अब मोदी सरकार ने सरकारी अधिकारियों की क्षमता को बढ़ाने के लिए भी एक योजना की शुरूआत की है। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक (Cabinet Meeting) हुई, डिसके दौरान देश के तमाम सरकारी अधिकारियों के लिए मिशन कर्मयोगी योजना (Mission Karmayogi Yojana) की शुरूआत की गई है।

Mission Karmayogi Yojana : मिशन कर्मयोगी योजना के ये हैं लाभ

These are the benefits and objectives of the Mission Karmayogi Yojana
These are the benefits and objectives of the Mission Karmayogi Yojana

Mission Karmayogi Yojana के तहत सीधी बात यह है कि इसके जरिए देश के तमाम सरकारी कर्मचारियों (Government employees) का स्किल डेवलपमेंट (Skill development) किया जाएगा। यह स्किल डेवलपमेंट ट्रेनिंग (Skill development) देने के लिए ऑनलाइन कंटेंट (Online content) प्रदान करके किया जाएगा। साथ ही इस Mission Karmayogi Yojana के तहत ऑन द साइड ट्रेनिंग (On the side training) पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा। अगर देखा जाए तो यह योजना एक कौशल निर्माण कार्यक्रम है। इस योजना के जरिए सरकारी अधिकारियों (Government officials) की काम करने की शैली में भी सुधार किया जाएगा।

Mission Karmayogi Yojana के तहत सरकारी कर्मचारियों की बढ़ेगी कार्य क्षमता

साथ ही Mission Karmayogi Yojana के तहत नियुक्ति के बाद सिविल अधिकारी (Civil officer) की काम की क्षमता बढ़ाने के लिए उन्हें ट्रेनिंग दी जाएगी, जिससे कि अधिकारियों के काम का प्रदर्शन पहले से बेहतर हो पाएगा। इसके अलावा Mission Karmayogi Yojana के दो रास्त होंगे। पहला- सव चलित और दूसरा- निर्देशित। यह योजना पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में चलाई जाएगी, जिसमें नई एचआर परिषद (New HR Council), चयनित केंद्रीय मंत्री (Selected Union Minister) और मुख्यमंत्री (Chief Minister) शामिल होंगे। साथ ही सिविल सेवा (Civil Services) से जुड़े सभी सरकारी अधिकारी और कर्मचारी किसी भी समय इस योजना के तहत प्रदान की जा रही ट्रेनिंग से जुड़ सकते हैं। Mission Karmayogi Yojana मिशन कर्मयोगी योजना के ये हैं लाभ और उद्देश्य!

Mission Karmayogi Yojana का उद्देश्य

Mission Karmayogi Yojana का मुख्य उद्देश्य सरकारी कर्मचारियों (Government employees) की कार्य क्षमताओं को अच्छे से विकसित करना है। इसके लिए सरकार द्वारा कई सारे संशोधन किए जाएंगे। जैसे कि कर्मचारियों को काम में क्षमता लाने किए ट्रेनिंग दी जाएगी। साथ ही ई लर्निंग कंटेंट (E learning content) दिया जाएगा। इसके अलावा Mission Karmayogi Yojana के जरिए सरकारी कर्मचारियों की कार्य क्षमता (working capacity) को बढ़ाया जाएगा। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस बारे में बात करते हुए बताया था कि Mission Karmayogi का लक्ष्य भविष्य के लिए भारतीय सिविल सेवक (Civil Services) को ज्यादा रचनात्मक, कल्पनाशील, सक्रिय, पेशेवर, प्रगतिशील, ऊर्जावान, सक्षम, पारदर्शी और प्रौद्योगिकी-सक्षम बनाकर तैयार करना है।

Mission Karmayogi Yojana का संस्थागत ढांचा

यह योजना Mission Karmayogi Yojana को हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अध्यक्षता में चलाया जाएगा, जिसमें केंद्रीय मंत्री और मुख्यमंत्री भी शामिल किए जाएंगे। इसके साथ ही प्रधानमंत्री के सार्वजनिक मानव संसाधन परिषद (Human Resources Council), क्षमता निर्माण आयोग (Capacity Building Commission), ऑनलाइन परीक्षण के लिए iGOT तकनीकी मंच (iGOT technical forum), स्पेशल परपज व्हीकल (Special Purpose Vehicle) और कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता वाली सामान्य इकाई भी शामिल की गई है। साथ ही Mission Karmayogi Yojana के लिए सरकार द्वारा 5 सालों के समय के लिए 510.86 करोड रुपए का बजट निर्धारित किया गया है, जो कि लगभग 46 लाख केंद्रीय कर्मचारियों के लिए है।

Mission Karmayogi Yojana के लाभ और विशेषताएं

1). Mission Karmayogi Yojana की शुरूआत 2 सितंबर 2020 को किया गया है।
2). इस योजना का संचालन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में किया जाएगा।
3). Mission Karmayogi Yojana के जरिए सिविल अधिकारियों की क्षमता बढ़ाने का ट्रेनिंग के माध्यम से प्रयास किया जाएगा।
4). इस योजना के तहत ऑन द साइड ट्रेनिंग पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा।
5). इस योजना के जरिए से प्रणाली में पारदर्शिता आएगी और अधिकारियों के काम करने की शैली में भी सुधार आएगा।
6). Mission Karmayogi Yojana के दो रास्तें होंगे सर्व चलित और निर्देशित।
7). इस योजना में पीएम नरेंद्र मोदी के साथ एक नई एचआर परिषद, चयनित केंद्रीय मंत्री तथा मुख्यमंत्री शामिल होंगे।
8). योजना के सफलतापूर्वक संचालन के लिए iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म का भी गठन किया गया है, जिसके जरिए ऑनलाइन कांटेक्ट उपलब्ध कराया जाएगा।

9). Mission Karmayogi Yojana के तहत सरकार द्वारा 5 सालों के लिए 510.86 करोड़ रुपए का बजट आवंटित किया गया है।
10). यह योजना लगभग 46 लाख केंद्रीय कर्मचारियों के लिए हैं।
11). Mission Karmayogi Yojana के तहत एक स्वामित्व वाली विशेष परियोजना वाहन कंपनी का गठन किया जाएगा, जो iGOT कर्मयोगी की प्लेटफार्म का स्वामित्व और प्रावधान करेगी।
12). Mission Karmayogi Yojana के तहत कई सारी स्किल डेवलप की जाएगी जैसे कि क्रिएटिविटी, कल्पनाशीलता, इनोवेटिव, प्रगतिशील, ऊर्जावान, पारदर्शिता।

यह भी पढे़ं:- PM Awas Yojana : अपना घर खरीदने के लिए HDFC ने 2 लाख घर खरीदारों को बांटे 4700 करोड़ रुपए